Be AwareYT

motivational and inspirational biography in hindi, success story in hindi, amazing and interesting facts in hindi, odd and weird facts, rochak tathya,

Saturday, 1 February 2020

Nawazuddin Siddiqui Biography in Hindi - नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी बायोग्राफी | Motivational Biography in Hindi

Nawazuddin Siddiqui Biography in Hindi - नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी बायोग्राफी | Motivational Biography in Hindi

     शायद ही आपको बताने की जरूरत है, की Nawazuddin Siddiqui कौन है और क्या करते है| क्युकी हम सबको पता है| उनकी पेहचान किसी परिचय की मोहताज नही है| आज के इस पोस्ट में मैं आपको Nawazuddin Siddiqui Biography in Hindi को बताऊंगा | तो आईये जानते है उनकी Inspirational Biography| तो आईये जानते है नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की बायोग्राफी|

Nawazuddin Siddiqui Biography in Hindi - नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी बायोग्राफी | Motivational Biography in Hindi
Nawazuddin Siddiqui - Bollywood Superstar 

Nawazuddin Siddiqui Earlier Life 

     Nawazuddin Siddiqui Biography in Hindi


     नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी का जन्म 19 मे 1974 को उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के एक छोटे से गांव बुढ़ाना में हुआ| नवाज अपने 9 भाई-बहनों में से सबसे बडे है| नवाज ने अपना पुरा बचपन और intermediate तक की पढ़ाई इसी बुढ़ाना गाव से की है| बहुत से लोग सोचते है, की नवाज एक बहुत ही गरीब परिवार से संबंधित थे, पर ऐसा नही है| उनके पिताजी एक अच्छे कमाऊ जमीदार किसान थे| हा वो अलग बात है जब वो एक्टर बनने मुम्बई आये थे तो तब उन्होंने बुरे से बुरे दिन देखे| उनके गाव का परिसर पढाई-लिखाई के लिए अच्छा नही था और इसी वजह से वो हमेशा से गाव के बाहर निकलना चाहते थे|


     नवाज ने अपनी एंटर तक की पढ़ाई की गाव से की और फिर बाद में वो हरिद्वार चले गए, क्योंकि आगे तक की पढ़ाई गाव में थी ही नही| हरिद्वार में उन्होंने Chemistry में B.sc की पढ़ाई पुरी की और वडोदरा (गुजरात) में वो एक कंपनी में बतौर कैमिस्ट काम करने लगे| इस काम में उनका मन नही लगता था, पर कुछ ना कुछ करना था इसीलिए वो काम करते जा रहे थे|

Nawazuddin Siddiqui Biography in Hindi - नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी बायोग्राफी | Motivational Biography in Hindi
Nawazuddin Siddiqui 


Nawazuddin Siddiqui Filmy Career 

     फिर एक दिन उनका एक दोस्त उन्हें एक फिल्म दिखाने ले गया| उस फिल्म को देखने के बाद नवाज को लगा, शायद मैं इसी काम के लिए बना हूं और मुझे एक्टींग करनी चाहिए| उनके दोस्त ने उन्हें सलाह दी, की अगर तुम्हें एक्टींग करनी है तो तुम्हें एक्टींग सिखनी होंगी| उन्हें National School of Drama में admission लेना था, पर admission लेने से पहले वहा plays का experience चाहिए था| तो इसलिए उन्होंने एक play grouo join कर लिया, जिसका नाम था Shakshi Theatre Group| यही वो ग्रुप था जिसमे उनके साथ मनोज बाजपेयी और सौरभ शुक्ला भी एक्टिंग की शिक्षा ले रहे थे| नवाज़ुद्दीन छोटे-मोटे नाटक करने लगे|


     पर इन नाटकों से पैसे नहीं मिलते थे और दिल्ली में sustain करना था तो पैसे तो चाहिए थे| वे नौकरी तलाशने लगे| एक दिन उन्हें किसी public toilet की दीवार पर चिपका पोस्टर दिखा, जिसमें लिखा था, “ security guard और watchman चाहिएं|” नवाज़ुद्दीन ने  contact किया और उन्हें दिल्ली शाहदरा शहर के पास एक toys factory में watchman की नौकरी मिल गयी|


     National School of Drama से एक्टींग की शिक्षा पुरी करने के बाद वो मुम्बई आ गये और यहा से उनकी संघर्षो की शुरुआत भी हो गयी थी| लोगों ने पहली बार नवाज को 1999 में आई फिल्म सरफरोश और शुल में उन्हें पहली बार देखा| पर उनका इन दोन्हों ही फिल्मों में बहुत ही छोटा रोल था| इसके बाद वो कई फिल्मों के लिए audition देने गये पर उन्हें हर कोई reject कर देता था| जब नवाज फिल्मों में काम करने के लिए जाते थे तो और कहते थे, की मै एक एक्टर हूं और मुझे आपकी फिल्म में काम करना है| तो बहुत से लोग उन्हें ये केहते थे की लगते तो नही| लोग उन्हें उनके look से judge करते थे| फिर ऐसे ही नवाज बहुत से फिल्मों में छोटे-मोटे रोल करते चले गए|

Nawazuddin Siddiqui Biography in Hindi - नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी बायोग्राफी | Motivational Biography in Hindi
Nawazuddin Siddiqui 


     पर जब साल 2004 में Director Anurag Kashyap उनकी फिल्म Black Friday पर काम कर रहे थे तो उनकी नजर नवाज पर गिरी और उनसे वादा किया की मैं तुम्हें मेरी आनेवाली फिल्म में जरूर काम दिलाऊंगा| फिर साल 2012 में अनुराग कश्यप ने नवाज को Gangs Of Wasseypur में लिया| फिर यहा से नवाज का पुरा फिल्मी करीयर ही बदल गया| इसी फिल्म की वजह से लोग उन्हें जानने लगे| फिर इसके बाद तो उन्होंने एक से एक फिल्में की|  पर ये सफर जरा भी आसान नही था उन्हें बॉलीवुड अपनी पहचान बनाने के लिए 13 साल का कड़ा संघर्ष लगा| 


    और आज उनकी एक्टींग का लोहा पुरी दुनिया मानती है| उनके इस कभी ना हार माननेवाले संघर्ष  से मैं तो काफी inspire हुआ हूं उम्मीद है आप भी जरूर हुए होंगे| तो उनकी Nawazuddin Siddiqui की ये Motivational Biography in Hindi कैसी लगी?  Comment में जरूर बताना| तो मिलते है next post में तब तक के लिए जय हिंद वंदे मातरम्|


Related 
Randeep Hooda Biography in Hindi

Kailash Kher Biography in Hindi

No comments:

Post a comment